Top 10 Mass Communication colleges in India

Spread the love
Top 10 Mass Communication colleges in India
Top 10 mass communication colleges और कोर्स नीचे दिए हुए हैं, उससे पहले हम जानते हैं कि मास मीडिया एंड कम्युनिकेशन क्या है ? 

BASIC QUERRY –

मीडिया और मास कम्युनिकेशन क्या है ?

मास कम्युनिकेशन का तात्पर्य आम जनता तक सूचना प्रसारित करने के कार्य से है | मास मीडिया इस जानकारी को प्रसारित करने के लिए एक माध्यम है | मास कम्युनिकेशन और मास मीडिया एक दूसरे से कनेक्टेड है | समाचार माध्यमों जैसे कि टेलीविजन और रेडियो चैनल के माध्यम से प्रसारित किया जाता है |

क्या इंटरनेट भी एक मास मीडिया है ?

मास मीडिया बहुत सारी टेक्नोलॉजी के माध्यम से होने वाला बड़े पैमाने पर संचार का माध्यम है, जो दर्शकों तक पहुंचता है | इंटरनेट मीडिया मे ईमेल, सोशल मीडिया, साइट वेबसाइट और इंटरनेट आधारित रेडियो और टेलीविजन जैसी सेवाएं शामिल है |

मास मीडिया कम्युनिकेशन कोर्स क्या है?

B.M.M. या बैचलर ऑफ मास मीडिया एक अंडर ग्रैजुएट मास कम्युनिकेशन कोर्स है, जिसका इस्तेमाल जनसंचार माध्यमों द्वारा किया जाता है | कोर्स को फुल टाइम बेसिस या पार्ट टाइम बेसिस पर आगे बढ़ाया जा सकता है | मास कम्युनिकेशन, विज्ञापन प्रसारण, पत्रकारिता, जनसंपर्क एंड मार्केटिंग जैसे क्षेत्र में करियर के अवसर के साथ एक रोमांचक और तेज गति वाला क्षेत्र है |

क्या मास मीडिया एक अच्छा करियर है?

अगर आप मास कम्युनिकेशन करियर विकल्प के रूप में देखते हैं तो यह आप पर डिपेंड करता है | अगर आपके पास रिक्वायर्ड एलिजिबिलिटी और मोटिवेशन है, यह जॉब आपको अच्छी रकम दिला सकती है | आपका अच्छा कम्युनिकेशन होना चाहिए, ज्यादातर आपका व्यवहार अच्छा होना चाहिए और सभी के साथ विनम्र होना चाहिए |

क्या मास कम्युनिकेशन आसान है?

मास कम्युनिकेशन वास्तव में आसान है, कोई भी अच्छे दिमाग वाला व्यक्ति इसे कर सकता है | बस आपको यह समझने की आवश्यकता है, कि लोग सोचते कैसे हैं, एक निश्चित तरीके से कैसे सोचते हैं | आपको यह जानने की जरूरत है कि बड़े पैमाने पर जनता से कैसे अपील की जाए, इसकी वजह से आपको संचार की कुछ सिद्धांतों के बारे में जानने की जरूरत है |

NORMAL QUERRY –
(Top 10 Mass Communication colleges)

क्या मास कम्युनिकेशन के लिए कोई प्रवेश परीक्षा है?

भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) पत्रकारिता और जनसंचार के क्षेत्र में शिक्षा, प्रशिक्षण और अनुसंधान में प्रवेश के लिए आईआईएमसी प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है| यह एक राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है, जो आईआईएमसी द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित की जाती है | यह भारत में टॉप एग्जाम्स में से एक है |

क्या आप बता सकते हैं कि मास कम्युनिकेशन की एंट्रेंस परीक्षा की प्रिपरेशन कैसे करें?
  • अपने आप को अपडेट रखें |
  • पढ़ने की आदत विकसित करें |
  • अपनी समझ और एक्सप्लेनेशन की आदत डालें |
  • अपने लेखन कौशल को बढ़ाएं |
  • पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों का अभ्यास करें |
  • इंटरव्यू राउंड को नजरअंदाज ना करें |

क्या मास मीडिया की, आज की टेक्निकल दुनिया में डिमांड है?

किसी भी अन्य क्षेत्रों के विपरीत, मास कम्युनिकेशन में नई नौकरी की संभावनाएं ज्यादा है, जो अगले कुछ वर्षों में बड़े पैमाने पर होंगी और मांग पहले से ही अधिक है | आपकी शुरुआत वर्तमान में पारंपरिक नौकरियों की तुलना में धीमी हो सकती है, लेकिन कुछ दिन पॉजिटिव होकर काम करने और एक्सपीरियंस लेने पर आपकी ग्रोथ अच्छी होगी | अगर आज की बात करें तो आजकल आप न्यूज़ ब्लॉग या न्यूज़ चैनल ( यूट्यूब ) बना कर भी आप पैसे कमा सकते हैं |

मास मीडिया और कम्युनिकेशन के लाभ और हानि के बारे में बताएं?

मास मीडिया में भी हर क्षेत्र की तरह लाभ और हानि है |

1. मास मीडिया के लाभ –

मास मीडिया एंड कम्युनिकेशन आप को विश्व स्तर पर अपने विचारों को व्यक्त करने और बड़ी संख्या में लोगों को प्रतिनिधित्व करने की स्वतंत्रता प्रदान करता है | यह आपको कई चीजें सीखने और एक सार्वजनिक मंच में प्रस्तुत करने की भी स्वतंत्रता प्रदान करता है |

2. मास मीडिया के नुकसान –

मीडिया के नुकसान में गलत रिपोर्टिंग और गोपनीयता की हानि का जोखिम शामिल है | यह व्यक्तिगत संपर्कों को पीछे छोड़ सकता है और संस्कृति को समरूप कर सकता है |

मीडिया और मास कम्युनिकेशन में शामिल होने के लिए Eligibility क्या है?

आमतौर पर एक मीडिया और मास कम्युनिकेशन कॉलेज में जाने के लिए आपको 45 से 50 % (10+2) जरूरत पड़ेगी | इन कॉलेजों में आवेदन करने के लिए आपकी आयु कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए |

मास कम्युनिकेशन के लिए मुख्य सब्जेक्ट क्या है?

इनमें हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य, अंग्रेजी भाषा, अंग्रेजी में साहित्य और एक अप्रूव साइंस सब्जेक्ट होना चाहिए | गणित भी होना आवश्यक है | डायरेक्ट एंट्री के लिए आवेदक को हाई स्कूल सर्टिफिकेट / जनरल सर्टिफिकेट ऑफ एजुकेशन (GCE) “ए” लेवल के साथ होना चाहिए और ध्यान रखें, उसमें 2 आर्ट के विषय भी होंगे |

OVERTHINKING –
(Top 10 Mass Communication colleges)

मीडिया और मास कम्युनिकेशन कोर्स भारत में करने की फीस क्या है?

मास कम्युनिकेशन कोर्स की फीस सरकारी कॉलेजों में ₹12000 से लेकर ₹110000 तक होगी | हालांकि निजी विश्वविद्यालयों की फीस इससे भिन्न होगी, यह ₹150000 से ₹400000 तक होगी |

क्या मैं बीएससी,स्नातक के बाद पत्रकारिता कर सकता हूं?

हां जरूर, कई छात्र स्नातक होने के बाद भी पत्रकारिता करते हैं, इसलिए यह एक सही विकल्प है | यदि आप पत्रकारिता में रूचि रखते हैं, क्योंकि इसमें बैकग्राउंड की कोई आवश्यकता नहीं है | कोई भी बैकग्राउंड का छात्र पत्रकारिता में पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकता है, इसके बहुत अच्छे अवसर भी हैं |

भारत में सर्वश्रेष्ठ पत्रकार कौन से हैं?

भारत में कई दिग्गज पत्रकार बहुत फेमस है, जैसे कि राजदीप सरदेसाई, श्वेता सिंह, शेखर गुप्ता, रवीश कुमार, अर्नब गोस्वामी और सुधीर चौधरी आदि शामिल है |

मास कम्युनिकेशन करने के बाद सैलरी क्या है?

मीडिया और मास कम्युनिकेशन करने के बाद शुरुआत में सैलरी 12000 से 25000 रुपए के बीच हो सकती है | 5 साल के एक्सपीरियंस के बाद एक पेशेवर व्यक्ति ₹50000 से लेकर ₹100000 रुपए प्रति माह तक के उच्च वेतन की उम्मीद कर सकता है |

मास कम्युनिकेशन के लिए कौन सी स्ट्रीम बेस्ट है?

यदि आप एक रचनात्मक लेखक हैं और मास मीडिया या पत्रकारिता में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो आपको आर्ट स्ट्रीम से आधुनिक भारतीय भाषा हिंदी, राजनीति विज्ञान, मनोविज्ञान और समाजशास्त्र जैसे विषयों को लेना चाहिए | एक उदार कला शिक्षा पत्रकारिता की प्रारंभिक फ़ाउंडेशन है |

विदेश में मास कम्युनिकेशन करने के लिए कौन सा देश बेस्ट है?

स्पेन और ऑस्ट्रेलिया के कुछ यूनिवर्सिटी दुनिया में मास कम्युनिकेशन कोर्स कराने के लिए फेमस है | आप इस कोर्स को करने के लिए यूएसए और कनाडा भी जा सकते हैं, वहां भी बहुत से अच्छे कॉलेज है |

Top 10 Mass Communication colleges in India

(भारत में टॉप 10 मीडिया एंड मास कम्युनिकेशन कॉलेज)

Top 10 Mass Communication colleges और कोर्स दिए हुए हैं –

1. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन, दिल्ली (IIMC)

कोर्स: Undergraduate Degree, Post Graduate Degree, Diploma Course

टाइप ऑफ स्ट्रीम: उर्दू जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, एडवरटाइजिंग एंड पब्लिक रिलेशंस, रेडियो एंड टीवी जर्नलिज्म, जर्नलिज्म (हिंदी), जर्नलिज्म (उड़िया), जर्नलिज्म (इंग्लिश)

कोर्स मोड: Full time, E-Learning

कॉलेज का पता: जेएनयू नया केंपस, अरूणा आसफ अली मार्ग, न्यू दिल्ली, दिल्ली – 110067

फोन नंबर: 011 2674 2920

वेबसाइट: http://iimc.nic.in/

2. एशियन कॉलेज आफ जर्नलिज्म, चेन्नई (ACJ)

कोर्स: Undergraduate Degree, Post Graduate Degree, Diploma Course

टाइप ऑफ स्ट्रीम: प्रिंट जर्नलिज्म (इंग्लिश / हिंदी), ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, रेडियो जर्नलिज्म, टेलीविजन जर्नलिज्म

कोर्स मोड: Full time, E-Learning

कॉलेज का पता: सेकंड मेन रोड, थारामानी, सीआईटी केंपस, चेन्नई, तमिलनाडु – 600113

फोन नंबर: 044 2254 2842

वेबसाइट: https://www.asianmedia.org/acj/

3. जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशन, मुंबई

कोर्स: Under Graduate Degree, Post Graduate Degree, Diploma Course

टाइप ऑफ स्ट्रीम: प्रिंट जर्नलिज्म (इंग्लिश / हिंदी), ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया, रेडियो जर्नलिज्म, टेलीविजन जर्नलिज्म

कोर्स मोड: Full time

कॉलेज का पता: 5, महापालिका मार्ग, धोबी तलाव, छत्रपति शिवाजी टर्मिनस एरिया, फोर्ट, मुंबई, महाराष्ट्र – 400001

फोन नंबर: 022 2262 1366

वेबसाइट: https://www.xaviercomm.org/

4. एजे किदवई एमसीआरसी जामिया मिलिया इस्लामिया, न्यू दिल्ली

कोर्स: Undergraduate Degree, Post Graduate Degree, Doctoral Degree

टाइप आफ स्ट्रीम: मास कम्युनिकेशन, विजुअल इफेक्ट एंड एनीमेशन, कन्वर्जेंट जर्नलिज्म, डेवलपमेंट कम्युनिकेशन, फोटोग्राफी एंड विजुअल कम्युनिकेशन

कोर्स मोड: Full Time

कॉलेज का पता: गेट नंबर 13, मौलाना मोहम्मद अली जौहर मार्ग, गफ्फार मंजिल कॉलोनी, जामिया नगर, ओखला, न्यू दिल्ली, दिल्ली – 110025

फोन नंबर: 011 2698 6812

वेबसाइट: https://www.jmi.ac.in/

5. सिंबोसिस इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, पुणे

कोर्स: Undergraduate Degree, Post Graduate Degree, Diploma, Post Graduate Diploma

टाइप ऑफ स्ट्रीम: कम्युनिकेशन मैनेजमेंट

कोर्स मोड: Full Time, E-Learning

कॉलेज का पता: सिंबोसिस नॉलेज विलेज, लावले, मुंशी तालुका, पुणे, महाराष्ट्र

फोन नंबर: 020 2663 4513

वेबसाइट: https://www.simc.edu/

6. यूनिवर्सिटी ऑफ मैसूर, मैसूर

कोर्स: Under Graduate Degree, Post Graduate Degree, Doctoral Degree

टाइप ऑफ स्ट्रीम: जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन

कोर्स मोड: Full Time

विश्व विद्यालय का पता: कृष्णराज बुलेवर्ड रोड, के. जी. कोपल, मैसूर, कर्नाटक – 550006

फोन नंबर: 0821 241 9450

वेबसाइट: http://www.uni-mysore.ac.in/

7. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद (NID)

कोर्स: Under Graduate Degree

टाइप ऑफ स्ट्रीम: फिल्म एंड वीडियो कम्युनिकेशन

कोर्स मोड: Full Time

कॉलेज का पता: ऑपोजिट टैगोर हॉल,राजनगर सोसायटी, पालडी, अहमदाबाद, गुजरात – 380007

फोन नंबर: 079 2662 9500

वेबसाइट: http://www.nid.edu/

8. क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बेंगलुरु

कोर्स: Doctoral, M Phil, Postgraduate, Undergraduate

टाइप ऑफ स्ट्रीम: Media and Communication

कोर्स मोड: Full Time

कॉलेज का पता: होसुर रोड, भवानी नगर, एसजी पाल्या, बेंगलुरु, कर्नाटक – 560029

फोन नंबर: 080 4012 9600

वेबसाइट: https://www.christuniversity.in/

9. एमिटी स्कूल ऑफ कम्युनिकेशन, नोएडा

कोर्स: Undergraduate Degree, Post Graduate Degree, Diploma

टाइप ऑफ स्ट्रीम: ग्राफिक्स एंड विजुअल कम्युनिकेशन, मास कम्युनिकेशन और प्रिंट जर्नलिज्म

कोर्स मोड: Full Time, E-Learning

कॉलेज का पता: एक्सप्रेस वे, सेक्टर 125, नोएडा, उत्तर प्रदेश – 201313

फोन नंबर: 091- 9968 491498

वेबसाइट: https://www.amity.edu/asco/

10. मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशन, कर्नाटक

कोर्स: Undergraduate Degree, Post Graduate Degree, Diploma, Post Graduate Diploma

टाइप ऑफ स्ट्रीम: मीडिया एंड कम्युनिकेशन

कोर्स मोड: Full Time, Correspondence

कॉलेज का पता: माधव नगर, ईश्वर नगर, मणिपाल, कर्नाटक – 576104

फोन नंबर: 091- 8202 571903

वेबसाइट: https://manipal.edu/soc.html

मास कम्युनिकेशन कोर्स

क्षेत्र में करियर बनाने की इच्छा रखने वाले उम्मीदवारों की आवश्यकता और हितों के अनुरूप मास कम्युनिकेशन पाठ्यक्रम के कई कोर्स है –

  *   मास कम्युनिकेशन कोर्स के नाम
कोर्स के प्रकार (कोर्स की अवधि)

1.   डवलपमेंट जर्नलिज्म डिप्लोमा
Diploma (4 months)

2.   जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन डिप्लोमा
Diploma (2 years)

3.   जर्नलिज्म में बी. ए.
Undergraduate Degree (3 years)

4.   बीए ऑनर्स में जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन (BJMC)
Undergraduate Degree (3 years)

5.   मीडिया स्टडीज में डिप्लोमा
Diploma (3 years)

6.   मल्टीमीडिया और मास कम्युनिकेशन में बीए ऑनर्स (BMMMC)
Undergraduate Degree (3 years)

7.   मास मीडिया में बैचलर डिग्री(BMM)
Undergraduate Degree (3 years)

8.   हिंदी जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन से बीए ऑनर्स (BHJMC)
Undergraduate Degree (3 years)

9.   फिल्म मेकिंग एंड मास कम्युनिकेशन से बीए
Undergraduate Degree (3 years)

10. जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में एम.ए.
Post-graduate Degree (2 years)

11. बिजनेस जर्नलिज्म एंड कारपोरेट कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा (DBJCC)
Post-graduate Diploma (1 year)

12. हिंदी जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएशन सर्टिफिकेट कोर्स
Post-graduate Certification (1 year)

13. हिंदी जर्नलिज्म में पीजी डिप्लोमा
Post-graduate Diploma (2 years)

14. मास कम्युनिकेशन में पीएचडी
Doctorate Degree (2 years)

ऐसी नौकरियों के लिए शीर्ष कंपनियां कौन-सी हैं?
  • हिंदुस्तान टाइम्स ग्रुप ऑफ पब्लिकेशन
  • एनडी टीवी नेटवर्क
  • ज़ी टीवी नेटवर्क
  • टाइम्स ऑफ इंडिया पब्लिकेशन ग्रुप
  • वायाकॉम
  • बीबीसी
  • टीवी 18 ग्रुप
  • बिग इंटरटेनमेंट

कंक्लूजन ( निष्कर्ष)

किसी भी करियर ऑप्शन की तरह, मास कम्युनिकेशन में पॉजिटिव विशेषताओं के साथ एक दूसरा पहलू भी है, जिसमें बड़े पैमाने पर कम्युनिकेशन करियर के लिए प्रतिबद्धता, समर्पण और व्यक्तिगत समय के बलिदान की आवश्यकता होती है, विशेष कर समाचार उद्योग में | एक पत्रकार को ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए दिन रात काम करना पड़ सकता है | इसी तरह, मनोरंजन या फिल्म बनाने वाले मीडिया वालों को जुनून के साथ काम करने की आवश्यकता होती है, कभी-कभी उनके जीवन की कीमत पर भी आ सकती है |

सोच में परिवर्तन

वह दिन गए, जब लोग सोचते थे यह कैरियर केवल एक्सट्रोवर्ट के लिए है | हर कोई जो इस क्षेत्र से जुड़ा हुआ है उसे यात्रा नहीं करनी है या कैमरे का सामना नहीं करना है | कुछ लोग कहते हैं कि यह इंट्रोवर्ट के लिए यह कैरियर नहीं है | हालांकि,यह सब मिथक है | यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो आउट ऑफ द बॉक्स सोच सकते हैं और आपका लेखन अच्छा है, भाषा में अच्छी कमांड है, तो भले ही आप इंट्रोवर्ट क्यों न हो, फिर भी आप इस करियर का हिस्सा बन सकते हैं |

पहले मीडिया का मतलब अखबारों, पत्रिकाओं और रेडियो से था, फिर टीवी आया ! जिसने दुनिया को हमेशा के लिए बदल दिया ! अर्थव्यवस्था के बदलते रूप के साथ, मीडिया अब बहुत आधुनिक हो गया है | जिसने लोगों की सोच ही बदल दी है |

हालांकि, संक्षेप में, आप प्रयास कीजिए, सफलता आपको अवश्य मिलेगी |
Please follow for more post 

 

(Top 10 Mass Communication colleges)

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *